गेहूँ का उत्पादन कम होने की संभावना

29 दिसम्बर, 2016

Download company Profile
weather


  

जैसे की भारत के किसान जानते हैं की गेहूँ की फसल तापमान पर निर्भर करती है अगर सामान्य तापमान से 1.5 डिग्री सेल्सियस तक ऊपर जाता है तो भी गेहूँ की उत्पादकता प्रभावित हो सकती है और देश के ज़्यादा बुवाई क्षेत्रों में जैसे की पंजाब, हरियाणा, उत्तर-प्रदेश, मध्य-प्रदेश, और राजस्थान में अप्रैल तक कटाई के लिए तैयार हो जाएगी | हालाँकि तीन वर्षों से लगातार मौसम के मिज़ाज़ गेहूँ फसल के लिए अच्छे नहीं रहे और इसकी कोई गारंटी नहीं की 2017 में भी अच्छे रहेंगे, गवर्नमेंट इंडिया के तहत 2016-17 में गेहूँ का उत्पादन 96.5 मिलियन टन तक आँका गया है, अगली फसल 3 महीने दूर है और पब्लिक स्टॉक लगातार कम हो रहा है व आटे की मीलें सबसे ज़्यादा दक्षिण भारत में प्रभावित हुई हैं जिसका कारण उत्पादक क्षेत्रों से लेकर कंज्यूमिंग क्षेत्रों तक यातायात के लिए कीमतों का बढ़ना | स्टॉक कम होने की वजह से भारत मार्च 2017 के अंत तक 6 मिलियन टन तक गेहूँ आयात करेगा |



  
weather


  

फुड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया के मुताबिक ३ मिलियन टन तक गेहूँ आयात किया जाएगा और लगभग उतनी ही अगले वर्ष क्यूँ की गेहूँ का स्टॉक काफ़ी कम हुआ है |



  

Weathersys BKC के अनुसार 29 दिसम्बर को अधिकतम कीमत राजस्थान के अबू रोड का 2025 रुपये प्रति क़ुइण्टल तथा सबसे कम गुजरात के धोराजी में 1780 रुपये प्रति क़ुइण्टल रहा है वहीं नेशनल कमॉडिटी एक्सचेंज के जनवरी से लेकर अप्रैल तक के वायदा बाज़ार में 230 रुपये का अंतर देखा जा रहा है और शिकागो बोर्ड ऑफ ट्रेड के मुताबिक पिछले 2 साप्ताह में 6% तक कीमतों में घटाव देखा गया है |



  
weather


  
logo

BKC Weathersys Pvt Ltd. | H-135, Sector 63, Noida 201307, India

T: +91 120 4632520/21 |M: +91 9810062673| F: +91 120 4632511/2427869

E: bk@weathersysbkc.com| weather@weathersysbkc.com

W: www.weathersysbkc.com | www.weatherindia.net